Recent Comments

    test
    test
    OFFLINE LIVE

    Social menu is not set. You need to create menu and assign it to Social Menu on Menu Settings.

    February 5, 2023

    मुझे ‘मोटी’ और ‘पनौती’ कहा…23 साल बाद सामने आया एक्ट्रेस का दर्द

    1 min read
    😊 कृपया इस न्यूज को शेयर करें😊

    अनिल कपूर की सुपरहिट फिल्म ‘किशन कन्हैया’ से लोकप्रिय हुईं शिल्पा शिरोडकर ने 80-90 के दशक में खूब नाम कमाया। हालांकि, हिट होने के बाद वह अचानक बॉलीवुड से गायब हो गईं। अब सालों बाद एक्ट्रेस ने बॉलीवुड से दूर होने और अपने फिल्मी सफर को लेकर कई चौंकाने वाले खुलासे किए हैं। अपने हालिया इंटरव्यू में शिल्पा ने कहा कि उन्हें अपने बढ़े हुए वजन की वजह से काफी रिजेक्शन का सामना करना पड़ा। उन्होंने यह भी कहा कि 90 के दशक में भी लोग उन्हें ‘मोटी’ कहकर उनका मजाक उड़ाते थे।

    आपकी जानकारी के लिए बता दें कि शिल्पा शिरोडकर एक्ट्रेस नम्रता शिरोडकर की बहन हैं। वह साउथ फेम अभिनेता महेश बाबू की भाभी भी हैं। शिल्पा शिरोडकर ने 1989 में फिल्म ‘भ्रष्टाचार’ से बॉलीवुड में डेब्यू किया था। इसके बाद उन्हें किशन कन्हैया, गोपी किशन, बेवफा सनम, रघुवीर और आंख जैसी फिल्मों में भी देखा गया। भले ही वह अपनी बहन नम्रता की तरह फिल्म इंडस्ट्री में मशहूर नहीं हो पाईं, लेकिन उनकी एक्टिंग को लोगों ने खूब पसंद किया।

    करियर को लेकर चौंकाने वाले खुलासे
    शिल्पा शिरोडकर ने एक इंटरव्यू में अपने बॉलीवुड करियर से जुड़े कई चौंकाने वाले खुलासे किए हैं। रिपोर्ट के मुताबिक, एक्ट्रेस ने कहा कि उन्हें मलाइका अरोड़ा से पहले शाहरुख खान की फिल्म ‘दिल से’ का गाना ‘छैंया छैंया’ ऑफर किया गया था, लेकिन फराह खान ने उनको ठुकरा दिया और मलाइका को साइन कर लिया था।

    लोग मुझे मोटी कहते थे
    शिल्पा शिरोडकर ने एक और सवाल का जवाब देते हुए कहा कि उनका मोटापा उनके करियर में बाधा बन गया था। रिपोर्ट के मुताबिक, उन्होंने कहा, ‘मुझे अपना वजन याद नहीं है या जिस तरह से मैं अपनी सफलता तय करती दिख रही थी या इसकी वजह से मुझे कितना प्यार मिला। 90 के दशक में ये चीजें मायने नहीं रखती थीं। हम एक ही समय में कई प्रोजेक्ट पर काम कर रहे थे। कई शिफ्ट में काम किया। हालांकि उन दिनों भी लोग मुझे ‘मोटी’ कहते थे।


    Whatsapp बटन दबा कर इस न्यूज को शेयर जरूर करें 

    Advertising Space


    स्वतंत्र और सच्ची पत्रकारिता के लिए ज़रूरी है कि वो कॉरपोरेट और राजनैतिक नियंत्रण से मुक्त हो। ऐसा तभी संभव है जब जनता आगे आए और सहयोग करे.

    Donate Now

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *

    WP Radio
    WP Radio
    OFFLINE LIVE