दिल्ली पुलिस की एक और सकारात्मक पहल

Spread the love

नई दिल्ली। नॉर्थ डिस्ट्रिक्ट दिल्ली पुलिस ने “पारस” स्कीम के तहत शुक्रवार को एक दिन के काउंसलिंग सेशन का आयोजन किया था। आपको बता दे कि यह सेंशन ऐसे नाबालिक अपराधियों के लिए रखा गया था जो बालिक होने के बाद अपराध की दुनिया से बाहर आ समाज की मुख्यधारा में वापस लौटना चाहते है दिल्ली पुलिस ने उन्हे इस दिशा में आगे बढ़ने के लिए प्रेरित किया।

उत्तरी जिला दिल्ली पुलिस ने इस पुनर्वास सेशन का आयोजन सेवा भारती और स्वंय सेवा संस्थान के साथ मिलकर सिविल लाइन्स स्थित GOS मेस में किया था। इस सेशन में प्रतिभागियों के साथ-साथ उनके माता-पिता भी शामिल थे यह काउंसलिंग प्रोफेशनल काउंसेलर्स के द्धारा किया गया था। जिन्होंने हर एक प्रतिभागी के कौशल, शौक, आदतें, सोने का तरीका, ताकत और कमजोरी का काफी गहन अध्ययन किया था।

इस सेंशन का उद्धेश्य दोषियों के भविष्य व उनके इच्छुक कार्यक्षेत्र के बारे में जानने का था जिन पर वे अपनी पूरी जिंदगी काम कर सकते हैं। यह सेशंन विशेषज्ञों द्वारा तैयार की गई विस्तृत प्रश्नावली की मदद से अध्ययन किया गया था। इस अध्ययन का उपयोग उम्मीदवारों को किसी भी कार्यक्षेत्र में प्लेसमेंट प्राप्त करने, या उन्हें अपना काम शुरू करने में मदद के लिए किया जाएगा।

कार्यक्रम के दौरान, काउंसेलर्स ने उम्मीदवारो के माता-पिता से बातचीत की और अपने बच्चों को प्रोत्साहित करने को कहा तथा उत्तरी दिल्ली पुलिस ने कहा कि शुरू की गई इस सकारात्मक पहल का अधिकतम लाभ उठाएं और अपने जीवन में सकारात्मकता की एक नई किरण लाएँ।

उत्तरी दिल्ली पुलिस आयुक्त एंटो अल्फोंस ने बताया कि
स्पेशल चाइल्ड एंड जुवेनाइल सेल के साथ नॉर्थ डिस्ट्रिक्ट कम्युनिटी पुलिसिंग सेल ने प्रोफेशनल काउंसलर्स के साथ मिलकर इस कार्यक्रम का संचालन पहले भी किया गया था जिसमें उन्हें सफलता की दिशा में आगे बढ़ने में मदद मिली थी। दिल्ली पुलिस की इस प्रकार की पहल ने जनता के दृष्टिकोण को बदल दिया है, गौरतलब है कि दिल्ली पुलिस को सिर्फ जनता की सुरक्षा के लिए ही देखा जाता था और इससे पुलिस को बहुआयामी भूमिका व लोगों के उत्थान को लेकर जागरूक के रूप में भी देखा जाएगा।


Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *