बिना हॉलमार्क नही बेच सकेंगे सोने के आभूषण

हॉलमार्क रामविलास पासवान ज्वैलर्स

ज्वैलर्स को पुराने सोने के स्टॉक को खत्म करना होगा

Spread the love

नई दिल्ली। केंद्र की मोदी सरकार अपने दृढ़ संकल्प के साथ अपना कार्य कर रही है। मोदी सरकार ने अब तक कई अहम फैसले लिए है। मोदी सरकार ने अपने फैसले में नोटबंदी से लेकर जीएसटी आदि कई फैसले कर उन पर खरी उतरी है। तो वही अब केंद्र की मोदी सरकार सोने के सभी आभूषणों के लिए हॉलमार्क जरूरी करने जा रही है। सरकार के फैसले के अनुसार अगले साल से सोने के आभूषण बिना हॉलमार्क के नहीं बिक सकेंगे। इस संबंध में 15 जनवरी 2020 को अधिसूचना जारी होगी। केंद्रीय उपभोक्ता मामलों के मंत्री रामविलास पासवान ने शुक्रवार को इसकी घोषणा की।

केंद्रीय मंत्री के मुताबिक इस दौरान ज्वैलर्स को पुराने सोने के स्टॉक को खत्म भी करना होगा। उन्होंने बताया कि अब तक सिर्फ 26019 ज्वेलर्स ने हॉल मार्क ले रखा है, जबकि देशभर में छोटे-बड़े 6 लाख ज्वैलर्स हैं। पासवान ने जानकारी दी कि देश के 234 जिलों में भारतीय मानक ब्यूरो (BIS) के हॉलमार्किंग 877 केंद्र हैं। बड़े शहरों में हॉलमार्किंग केंद्र हैं, लेकिन छोटे शहरों में नहीं है।

पासवान ने बताया कि यह फैसला उपभोक्ताओं और ज्वेलर्स के लाभ को ध्यान में रखते हुए लिया गया है। हॉलमार्क लोगों को मिलावट से बचाता है और यह सुनिश्चित करता है कि उपभोक्ताओं को घटिया गुणवत्ता वाले गहने खरीदने में धोखा न मिले। यह निर्माताओं को शुद्धता के कानूनी मानकों को बनाए रखने के लिए भी बाध्य करता है।

भारतीय मानक ब्यूरो अधिनियम 2016 को 12 अक्टूबर 2017 और भारतीय मानक ब्यूरो (हॉलमार्किंग) विनिमय 2018 को 14 जून 2018 से लागू किया गया। बीएसआई अप्रैल 2000 से सोने के आभूषणों के लिए हॉलमार्किंग योजना चला रहा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *