राजधानी में नहीं थम रहा ​महिलाओं के खिलाफ अपराध

Spread the love

दिल्ली पुलिस ने महिलाओं के खिलाफ हुए आठ विशेष प्रकार के अपराधों को ले​कर अपने आंकड़े जारी किए है।

नई दिल्ली। महिलाओं के खिलाफ अपराध हमेशा से ही सुर्खियों में बने रहते है और इन अपराधों पर अंकुश लगाने के लिए पहले से बने कानूनों को और मजबूत करने पर चर्चा होती रही है। कोरोना वायरस महामारी के चलते देश में लगे लॉकडाउन के दौरान महिलाओं के खिलाफ घरेलू हिंसा में भारी उछाल देखने को मिला, जिसके चलते उनकी परेशानियों में भी काफी बढ़ोतरी हुई।दिल्ली पुलिस ने राजधानी में महिलाओं पर हुए अपराधों के आंकड़े जारी किए है जो यह साफ दर्शाते है कि राजधानी में भी महिलाएं सुरक्षित नहीं है। हालांकि, साल दर साल महिलाओं पर हो रहे अपराध की बात करे तो मामलों में मामूली गिरावट देखने को तो जरूर मिली है।

दिल्ली पुलिस ने महिलाओं के खिलाफ हुए आठ विशेष प्रकार के अपराधों को ले​कर अपने आंकड़े जारी किए है। आपको बता दे कि ये आँकड़े शिकायतों और प्राथमिकी के आधार पर हैं जिन्हें पुलिस स्टेशन में अक्टूबर 2020 तक दर्ज किया गया है। दिल्ली पुलिस के आँकड़े के मुताबिक वर्ष 2020 में अक्टूबर तक रेप (376 IPC) के कुल 1429 मामले सामने आए है, मारपीट व हमले (354 IPC) के 1791 मामले , महिला के शील का अपमान (509 IPC) के 350 केस, अपहरण के 2226 केस सामने आए थे।

वहीं घरेलु हिंसा (498-A/406 IPC) की बात करे ​तो अक्टूबर 2020 तक कुल 1931 मामले, तो दहेज के कारण मौत (304B) के 94 और दहेज निषेध अधिनियम के तहत 9 मामले सामने आए। दिल्ली पुलिस की इस सूची में 2012 से 2020 तक महिलाओं के खिलाफ हुए अपराधों की कुल संख्या है।

यह भी पढ़े: https://delhiuptodate.com/5-positive-cases-found-on-a-flight-returned-from-london-to-delhi/


Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *