रेल हादसे में 60 लोगों की मौत के बाद हुआ नया खुलासा

Spread the love

नई दिल्ली। रावण दहन देखने के दौरान अमृतसर में एक ट्रेन की चपेट में आकर हुई 60 लोगों की मौत के बाद इस हादसे पर अब सवाल खड़े हो रहे हैं। लेकिन इस मामले के जिम्मेदार पक्ष इससे अपना पल्ला झाड़ रहे हैं। रेलवे और स्थानीय पुलिस, दोनों ही इस मामले में अपनी अपनी जिम्मेदारियों से भाग रहे हैं।

शनिवार को रेलवे ने इस घटना से अपना पल्ला झाड़ लिया। उत्तरी रेलवे के प्रवक्ता दीपक कुमार ने जारी बयान में कहा कि यह कार्यक्रम एक ऐसे क्षेत्र में हो रहा था, जो रेलवे के अधिकार क्षेत्र से बाहर है। बयान के मुताबिक वहां पर दशहरा कार्यक्रम आयोजित करने के बारे में ना तो क्षेत्रीय प्रशासन और ना ही कार्यक्रम आयोजक ने कोई सूचना दी।

आपको बता दे कि अब इस मामले में नया खुलासा हुआ है, रेलवे ट्रैक के पास रावण दहन की इजाज़त पुलिस ने दी थी। एक दूसरे पर हो रहे दोषारोपण के बीच दो लेटर सामने आए हैं। एक में दशहरा कमेटी ने पुलिस को पत्र लिखकर दशहरा कार्यक्रम को आयोजित करने की अनुमति मांगी थी। दूसरे पत्र में पुलिस ने कहा कि उसको इस कार्यक्रम के आयोजन को लेकर कोई आपत्ति नहीं है।

इस भीषण हादसे के बाद सबसे ज्यादा सवाल इसी बात पर उठ रहे हैं कि ऐसी जगह पर रावण दहन की अनुमति क्यों दी गई। अगर अनुमति दी गई तो पुलिस ने सुरक्षा के इंतजाम क्यों नहीं किए। इन दो पत्रों से इतना तो तय है कि आयोजक कमेटी ने इसकी जानकारी पुलिस को दी थी, लेकिन पुलिस ने पत्र में ही उसकी अनुमति दे दी और सुरक्षा के लिए कुछ नहीं किया और यहां तक कि कार्यक्रम स्थल पर पुलिस खुद भी उपस्थित नहीं थी।

वहीं इस मामले में एक और तथ्य सामने आ रहा है कि अमृतसर नगर निगम इस समारोह के आयोजन की अनुमति नहीं दी थी। अमृतसर नगर निगम आयुक्त सोनाली गिरी के हवाले से लिखा है कि नगर निगम से ऐसे किसी आयोजन की परमिशन नहीं मांगी गई थी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *