अब केजरीवाल बेचेंगे प्याज?

Delhi Cm kejriwal महंगाई

जनता पर प्याज की महंगाई का वजन पड़ रहा

Spread the love

जनता मांगे प्याज सीएम मांगे ब्याज

दिल्ली अप-टु-डेट
नई दिल्ली। दिल्ली की राजनीति में उथल पुथल तो चलती रहती है तथा यह कहना भी गलत नही है कि राजनीति में दांव पेंच ही सबसे मुख्य हथियार होते है और सफल राजनीतिज्ञ वह है जिसका दांव लग जाये और वह बाजी को जीत ले तो कुछ ही समय में दिल्ली के अंदर विधानसभा के चुनाव होने है तो कई राजनैतिक पार्टियो के प्रमुख लोग अपने दांव पेच दावे और वादे लेकर जनता के बीच पहुंच रहे है तो कुछ राजनेता एक दूसरे पर आरोप थोप रहे है कि मेरी बनेगी तो हम ऐसा करेगे की जनता को फायदा ही फायदा होगा तो सरकार कह रही है कि हमे केंद्र करने नही देता, हम सभी को चांद पर लेकर चलने वाले थे मगर केंद्र ने पेट्रोल नही दिया, चलो जी यह तो बात विकास की हो गयी।

राजनीति इतनी गंदी होती जा रही है कि चुनावी सैलाब के समय में नेता कुछ भी कर सकते है और चुनाव के समय ही जनता को लगता है कि देश के अंदर लोकतंत्र है नेता जी भागे-भागे अपने लिए महौल बनाने आते है तो सभी जनता की परेशानी को दूर करने में लगे रहते है कि चुनावी समय में जनता को कैसे अपने पक्ष में ढाला जाए। इधर दिल्ली के मुखिया केजरीवाल को लगा कि चुनावी समय है और जनता पर प्याज की महंगाई का वजन पड़ रहा है तो उन्होंने आनन-फनन में फैसला लिया कि वह अब रिटेल करेंगे। उधर महंगा प्याज खरीदेंगे और जनता को सस्ता प्याज बेचेंगे यानी राजनीति ने उन्हें अब प्याज बेचने को भी मजबूर कर दिया।

लेकिन सोचनीय यह भी है कि प्याज बेचना उनकी मजबूरी है या सत्ता जाने का भय चलो इनका दांव भी बड़ा मजबूत है कि साहब हम तो परेशानी समझते है सत्ता में रहकर आप की सेवा इतनी कर रहे है कि प्याज तक बेच रहे है तो दूसरी तरफ इन्हें यह भी उम्मीद है कि जब जनता सस्ता प्याज खायेगी तो कम से कम ब्याज के रूप में कुछ तो वोट मतदान करेंगी।

लेकिन इससे किसको क्या फायदा होगा या नुकसान इसके बारे मे कुछ कहना में उचित नही समझता हूं। लेकिन जनता को मिल रहे लाभ में जरूर कुछ पार्टियो के नेताओ को बुरा तो लगेगा और वह ब्यान बाजी भी करेंगे चलो यह तो राजनीति है वह तो होना ही है। लेकिन शासन में रहकर प्याज बेचने का अनुभव केजरीवाल ले रहे है।

यह तो कही न कही सही है। वह इस प्रकार के दांव से सत्ता वापस मिली तो लाभ और नही मिली तो कम से कम ब्यान बाजी करने से अच्छा 5 साल प्याज तो बेचेंगे। उसके लिए यह दांव चारो ओर और दृष्टि में काफी अहम व मजबूत है। सरकार ने प्याज खरीदना शुरू कर दिया है। ऐसा सूत्रो ने बताया है और सरकार 24रू कि0 प्याज बेचने की तैयारी कर रही है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *