दिल्ली-एनसीआर के कई हिस्सों में बेहद खराब स्तर पर पहुंचा प्रदूषण

नई दिल्ली। दिल्ली-एनसीआर की हालत प्रदूषण से और भी ज्यादा बिगड़ सकती हैं। विशेषज्ञों का अनुमान है कि दो दिन बाद दिल्ली-एनसीआर के आसमान में खतरनाक काले धुंध की परत छाने वाली है। दिल्ली और हरियाणा सहित आसपास के इलाकों में हवा की गति में मामूली इजाफे के कारण अगले दो दिनों तक वायु प्रदूषण की मात्रा में संभावित गिरावट के बाद इस सप्ताहांत पश्चिमी विक्षोभ का असर हवा की गुणवत्ता में तेजी से गिरावट की वजह बनेगा। गुरुवार (1 नवंबर) को दिल्ली-एनसीआर के कई हिस्सों में प्रदूषण बेहद खराब स्तर पर पाया गया हैं।

बता दे कि दिल्ली में प्रदूषण का स्तर कम करने के लिए यहां एक नवंबर से ग्रेडेड रिस्पॉन्स एक्शन प्लान (GRAP) लागू कर दिया गया है। इसके तहत एक से 10 नवंबर के बीच दिल्ली-एनसीआर में प्रदूषण फैलाने वाली तमाम गतिविधियां प्रतिबंधित रहेंगी। इसमें निर्माण कार्यों पर प्रतिबंध रहेगा और नियमों का उल्लंघन करने पर भारी-भरकम जुर्माना लगाने के साथ कानूनी कार्रवाई भी की जाएगी।

पृथ्वी विज्ञान मंत्रालय के मातहत संचालित ‘हवा की गुणवत्ता और मौसम पूर्वानुमान शोध प्रणाली’ (सफर) ने बुधवार को अपनी रिपोर्ट में कहा है कि पश्चिमी विक्षोभ के कारण दिल्ली एनसीआर क्षेत्र में नमी बढ़ेगी। इससे दो नवंबर से हवा की गति धीमी होने के कारण से वायु प्रदूषण का स्तर तेजी से बढ़ने की आशंका जताई जा रही है।

सफर के पूर्वानुमान के मुताबिक एक नवंबर से पश्चिमी विक्षोभ के उत्तर भारत में असर को देखते हुये नमी बढ़ने और दो नवंबर से हवा की गति कम होने के कारण अगले दस दिनों तक दिल्ली एनसीआर क्षेत्र में वायु प्रदूषण के स्तर में इजाफा होगा। इसके मद्देनजर उच्चतम न्यायालय की निगरानी में कार्यरत पर्यावरण प्रदूषण निवारण एवं नियंत्रण प्राधिकरण (ईपीसीए) ने सभी संबद्ध एजेंसियों को इस दिशा में एहतियाती उपाय करने को कहा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *