कब्ज की समस्या को पलभर में दूर करता यह फल?

कब्ज की समस्या

इस समस्या का मुख्य कारण फास्ट फूड एवं तला हुआ वसा युक्त भोजन है।

Spread the love

दिल्ली अप-टु-डेट

भारत में सबसे ज्यादा रोगी कब्ज के रोग वाले मिलते है। कहने को तो यह एक साधारण रोग है जो लगभग सभी पुरूषों, महिलाओं, बच्चों को हो जाता है। इस समस्या का मुख्य कारण फास्ट फूड एवं तला हुआ वसा युक्त भोजन है। कब्ज के होने पर व्यक्ति असहज महसूस करता है और उसे बैचनी बनी रहती है। इस समस्या का समाधान एक पल में निकल सकता है। लेकिन आज के लोगो में आधुनिकता का प्रभाव है। शायद वह इसलिए ही देशी नुक्सों जड़ी बूटियों पर भरोसा नही करते है। कब्ज के रोगी अधिकतर शहरों में पायें जाते है। 

ग्रामीण क्षेत्रो में कब्ज रोगी बहुत कम मिलते है क्योंकि भारतीय ग्रामीण आज भी देशी नुक्सों पर भरोसा करते है। शहरों के निवासी जन सबसे ज्यादा वसा युक्त फास्ड फूड खाने के शौकीन होते है और दैनिक अपने भोजन में फास्ड फूड को जगह देते है तो इस कब्ज की समस्या से निजात एक छोटे से फल को खाने से मिल सकती है। यह फल सदियों में मिलता है। जो खाने में भी बहुत ही जायेकादार होता है और कब्ज को दूर भगाने के साथ-साथ अन्य कई रोगो को भी दूर करने में सहायक होता है व ठंड के मौसम का एक खास और खट्टा-मीठा फल है। 

जिसको खाने में जितना अच्छा लगता है इसके फायदे ही उतने बेमिसाल है। यदि आप ठंड में बेर का सेवन करते है तो ठंड के मौसम में होने वाली सेहत समस्या और कई समस्याओं से निजात भी पा सकते है। कुछ लोगो का मानना होता है कि सदियों में बेर खाने से खांसी हो जाती है। लेकिन ऐसा नही है। इस फल बेर को खाने से अनेक फायदे मिलते है। यदि त्वचा पर कट लगा हो अथवा घाव हो जाये तो आप बेर के गूदे को घिसकर घाव पर लगा ले और लगाने से घाव जल्द भर जाता है। इसके साथ-साथ बेर का सेवन खुशी और थकान को दूर करने में मदद करता है। बेर की पत्तियों में भी चमत्कारी गुण विद्यमान होते है।

वैज्ञानिक तरीके से देखे तो बेर की पत्तियां में कैल्शियम, फास्फोट्स, मैग्नीशियम, पोटेशियम, सोडियम, कलोरीन प्रचुर मात्रा में होता है। यदि आप बेर, नीम के पत्तो को पीसकर सिर में लगाए तो इसके प्रभाव से सिर के बाल गिरने कम होते है एवं बेर का जूस पीने से बुखार और फेफड़े संबंधी रोग ठीक होते है। बेर और नमक खाने से अपच दूर हो जाती है तो बेर खाने से पेट से संबंधित सभी समस्यायें पलभर में दूर हो जाती है। बेर के और भी  तमाम फायदे होते है। बेर को छाछ के साथ खाने से घबराहट, उल्टी, पेट दर्द आदि रोग दफा हो जाते है। इसके साथ-साथ नियमित बेर खाने से अस्थमा रोगियों को राहत मिलती है एवं मसूडो में घाव हो तो जल्द ही भर जाता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *