पूर्व राष्ट्रपति ​को भारत रत्न से नवाजेंगे रामनाथ कोविंद

भारत रत्न राष्ट्रपति रामनाथ कोबिंद

भारत रत्न से नवाजेंगे रामनाथ कोविंद

Spread the love

नई दिल्ली। देश के मौजूदा राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद आज पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी को भारत रत्न से सम्मानित करेंगे। पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी के अलावा यह पुरस्कार मरणोपरांत सामाजिक कार्यकर्ता नानाजी देशमुख और असम प्रख्यात गायक भूपेन हजारिका को भारत रत्न से सम्मानित किया जाएगा। तीनों को जनवरी 2019 में इस सम्मान के लिए चुना गया था।

आपको बता दे कि राष्ट्रपति प्रणव मुखर्जी का राजनीतिक जीवन लगभग पांच दशकों का रहा। वे कांग्रेस से जुड़े रहे। इस दौरान वे इंदिरा गांधी, राजीव गांधी, पी. वी. नरसिम्हा राव और मनमोहन सिंह के नेतृत्व वाली सरकारों में विभिन्न प्रमुख पदों पर रहे। उन्होंने 2012-2017 तक राष्ट्रपति पद पर रहे। इससे पहले 2009 से 2012 तक केंद्रीय वित्त मंत्री के रूप में भी काम किया।

कांग्रेस नेताओं ने प्रणब मुखर्जी को भारत रत्न से सम्मानित किए जाने के फ़ैसले का स्वागत किया था। भारत रत्न मिलने की घोषणा के बाद प्रणब मुखर्जी ने अपने संदेश में कहा था कि ‘मैं भारत की जनता के प्रति विनम्रता और कृतज्ञता की भावना के साथ इस सम्मान को ग्रहण करता हूं। मैंने हमेशा कहा है और फिर कह रहा हूं कि मुझे अपने महान देश के लोगों से उतना मिला है जितना मैंने दिया भी नहीं है।’ उन्हें इसके लिए पीएम मोदी, राहुल गांधी समेत कई नेताओं ने उन्हें बधाई दी थी।

सर्वोच्च नागरिक सम्मान से अब तक 45 हस्तियों को भारत रत्न से सम्मानित किया जा चुका है। 25 जनवरी 2019 के की गई घोषणा के बाद यह संख्या 48 हो गई है। अंतिम बार यह सम्मान साल 2015 में पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी और पंडित मदन मोहन मालवीय (मरणोपरांत) को दिया गया था। कांग्रेस के नेता तत्कालीन पार्टी अध्यक्ष राहुल गांधी ने पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी को भारत रत्न से सम्मानित करने की भारत सरकार की घोषणा के बाद मुखर्जी को बधाई दी थी और कहा था कि उनकी पार्टी को गर्व है कि कांग्रेस के दिग्गज नेता रहे एक व्यक्ति के योगदान को पहचान और सम्मान दिया गया है।

राहुल गांधी ने ट्वीट कर कहा था, ‘प्रणब दा, भारत रत्न के लिए बधाई। कांग्रेस पार्टी को गर्व है कि जनसेवा एवं राष्ट्र निर्माण में हमारे एक अपने के असीम योगदान को पहचान और सम्मान मिला है।’ उन्होंने भूपेन हजारिका और नानाजी देशमुख को भारत रत्न (मरणोपरांत) दिए जाने की घोषणा पर भी खुशी जताई।”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *