चंद्रयान—2 लॉन्च, देशभर में खुशी की लहर

चंद्रयान—2 सफल लॉंचिंग इसरो

चंद्रयान—2 लॉन्च

Spread the love

नई दिल्ली। देश के लिए आज बड़ी खुशी का दिन है। इसरो ने चंद्रयान—2 को लॉन्च कर इतिहास रच दिया है। चन्द्रयान—2 सतीश धवन अंतरिक्ष केंद्र से रवाना हुआ। राकेट JSLV MK3 बाहुबली ने 2.43 मिनट पर अपने निर्धारित समय की राह पर चल पड़ा। चन्द्रयान की सफल लॉंचिंग को देखकर सतीश धवन स्पेस सेंटर में मौजूद वैज्ञानिको में खुशी की लहर दौड़ पड़ी। चंद्रयान की लॉंचिंग पर प्रधानमंत्री भी नजर रखे हुए थे। चंद्रयान—2 की सफल लॉंचिंग पर उन्होने इसरो के वैज्ञानिको को बधाई दी तथा प्रधानमंत्री मोदी ने बधाई देेते हुए कहा कि आज का दिन देश के 130 करोड़ वासियों के लिए गर्व का दिन है। चंद्रयान— 2 की सफल लॉंचिंग पर इसरो के प्रमुख के सिवन ने कहा कि हमने यान की तकनीकी की परेशानी को ठीक कर मिशन को अंतरिक्ष में भेजा है। इसरो चीफ का क​हना है कि हमारी सोच से भी चंद्रयान—2 की लॉंचिंग बेहतर थी। चंद्रयान—2 चंद्रमा के दक्षिणी धुव्र पर उतरेगा।
चंद्र की ओर भारत ने इतिहासिक शुरूआत की है। इसरो चीफ का क​हना है कि अभी सफर खत्म नही हुआ। हमें अपने अगले मिशन पर लगना है इसरो की तरफ से बताया गया की अभी रॉकेट की गति बिल्कुल सामान्य है। प्लानिंग के हिसाब से ही चल रहा है। दोनो एस—200 रॉकेट चंद्रयान—2 से हो अलग हो जाऐगे। सबसे मुख्य आखिरी के 15 मिनट होंगे। जब लैंडर विक्रम चंद्रमा की सतह पर उतरने वाला होगा।
मिशन पूर्ण रूप से कामयाब साबित होगा, जब चंद्रमा पर नई चीजों की खोज कर सफलता प्राप्त करेंगा। चंद्रयान—2 को पृथ्वी की कक्षा में पहुचानें की जिम्मेदारी JSLV MK3 को दी थी। इस रॉकेट को मीडिया ने बाहुबली का नाम दिया था। JSLV MK3 ने 3.8 टन वजन वाले चंद्रयान—2 को लेकर उड़ान भारी।

चंद्रयान—2 की कुल लागत 603 करोड़ रूपये है। अलग—अलग चरणो में सफर को पूरा करके चंद्रयान 7 सितंबर को चांद के दक्षिणी धुव्र पर उतरेगा। अभी तक विश्व के तीन देश अमेरिका, रूस, चीन ने चंद्रमा पर अपने यान उतारे है। 2008 में भारत ने चंद्रयान प​हला लॉंच किया था। वह एक आर्बिटर अभियान था। आर्बिटर ने 10 महीने तक चांद का चक्कर लगाया था। चांद पर पानी की खोज करने का श्रेय चंद्रयान फस्ट को प्राप्त है। चंद्रयान—2 को तीन हिस्सों में बांटा गया है, आर्बिटर लैंडर और रोवर वैज्ञानिक विक्रम शाराभाई के सम्मान में लैंडर का नाम विक्रम रखा गया ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *