हमारी ही मिसाल ने Mi-17 को भूल से गिराया: भदौरिया

Mi-17 एफ -16 वायुसेना चीफ

'राफेल और एस-400 वायु रक्षा मिसाइल प्रणाली

Spread the love

नई दिल्ली। सेना ने पिछले एक साल में 26 फरवरी (बालाकोट में आतंकी शिविरों को सफलतापूर्वक निशाना बनाया था) सहित कई महत्वपूर्ण उपलब्धियां प्राप्त की। साथ ही एयर चीफ मार्शल राकेश कुमार सिंह भदौरिया ने बताया कि पाकिस्तान द्वारा किए गए हवाई हमले में 27 फरवरी को भारतीय वायु सेना ने एक मिग -21 खो दिया, जिसमें पाकिस्तान के एक एफ -16 को भी हमने मार गिराया। भदौरिया ने इस दौरान कहा, ‘राफेल और एस-400 वायु रक्षा मिसाइल प्रणाली, भारतीय वायु सेना की क्षमता को और बढ़ाएगी।’

वार्षिक वायु सेना दिवस (Air Force Day) में चीफ मार्शल राकेश कुमार सिंह भदौरिया ने भारतीय वायु सेना की उपलब्धियों को गिनाया। भदौरिया द्वारा इस दौरान हो रही प्रेस कॉन्फ्रेंस में एक वीडियो को भी दिखाया गया। इस वीडियो में वायु सेना द्वारा किए गए बालाकोट हवाई हमले दृश्य है।

इसी साल 27 फरवरी को श्रीनगर में Mi-17 हेलिकॉप्टर क्रैश पर वायुसेना चीफ ने कहा है कि कोर्ट ऑफ इन्क्वायरी पूरी हुई और ये हमारी ही गलती थी। हमारी ही मिसाइल ने हमारे हेलिकॉप्टर को मार गिराया था। इस मामले में दोषी पाए गए दो अधिकारियों के खिलाफ कार्रवाई करेंगे। हम स्वीकार करते हैं कि ये हमारी बड़ी गलती थी और हम ये भविष्य में सुनिश्चित करेंगे कि ऐसी गलतियां ना दोहराई जाएं।

पाकिस्तान की ओर से छोटे ड्रोन की मदद से भारत के इलाके में हथियार गिराए जाने के मुद्दे पर भी वायुसेना चीफ ने बात की। उन्होंने कहा कि छोटे ड्रोन एक नया खतरा है और इससे निपटने के लिए कुछ तरीके पहले से ही अपनाए जा रहे हैं। ये वायुसीमा उल्लंघन से जुड़ा मामला है और हमने इस पहलू पर आवश्यक कार्रवाई शुरू कर दी है।

एयर चीफ मार्शल आरकेएस भदौरिया ने बालाकोट जैसे एक और हमले के सवाल पर भी जवाब दिया। जब उनसे पूछा गया कि क्या बालाकोट जैसे किसी और हमले की आशंका है, तो उन्होंने कहा कि अगर कोई आतंकी हमला(पाकिस्तान की ओर से) होता है तो हम सरकार के फैसले पर इसका जवाब देंगे। ब्यूरो

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *