सीएए असंवैधानिक, एनआरसी और एनपीआर एक ही जैसे: चिदंबरम

वरिष्ठ कांग्रेस नेता एवं पूर्व वित्त मंत्री पी चिदंबरम

कोलकाता के पार्क सर्कस मैदान में सिटीजनशीप अमेंडमेंट एक्ट (सीएए) और नेशनल रजिस्टर ऑफ सिटीजंस (एनआरसी) के विरोध में हो रहे प्रदर्शन

Spread the love

कोलकाता। वरिष्ठ कांग्रेस नेता एवं पूर्व वित्त मंत्री पी चिदंबरम ने शनिवार को कहा कि नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) असंवैधानिक है और इसे खत्म कर देना चाहिए। उन्होंने साथ ही कहा कि राष्ट्रीय नागरिक रजिस्टर (एनआरसी) और राष्ट्रीय जनसंख्या रजिस्टर (एनपीआर) एक ही जैसे हैं।

कोलकाता के पार्क सर्कस मैदान में सिटीजनशीप अमेंडमेंट एक्ट (सीएए) और नेशनल रजिस्टर ऑफ सिटीजंस (एनआरसी) के विरोध में हो रहे प्रदर्शन मे कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और पूर्व वित्त मंत्री पी. चिदंबरम पहुंचे। वे शुक्रवार को भी प्रदर्शन स्थल गए थे। वहीं, पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के नेतृत्व वाली तृणमूल कांग्रेस सहित अन्य विपक्षी पार्टियां सीएए और एनआरसी का विरोध कर रही हैं। इन दलों का मानना है कि ये कानून असंवैधानिक और मानवीय हित में नहीं है।

पश्चिम बंगाल प्रदेश कांग्रेस कार्यालय में सीएए-एनपीआर-एनआरसी के प्रशिक्षण शिविर में भाग लेने के लिए पी. चिदंबरम कोलकाता आये थे। कार्यक्रम के बाद उन्होंने ने एक प्रेस कांफ्रेंस को संबोधित करते हुए कहा कि एनआरसी पर सभी पार्टियों को एक हो जाना चाहिए। हम भारत के संविधान की रक्षा करने के लिए लड़ रहे हैं। चिदंबरम के प्रदर्शन स्थल पर पहुंचते ही प्रदर्शनकारियों ने भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) की अगुवाई वाली केंद्र सरकार के विरोध में नारे लगाए। उन्होंने कहा कि हम प्रदर्शन के साथ है।

चिदंबरम यहां सीएए के खिलाफ पार्टी के विरोध प्रदर्शन में शामिल हुए। उन्होंने पत्रकारों से कहा कि सीएए असंवैधानिक और यह भेदभावपूर्ण कानून है तथा इसे तुरंत खत्म कर देना चाहिए। पूर्व वित्त मंत्री ने कहा कि एनपीआर और एनआरसी भी एक ही चीज है और यह भी भेदभावपूर्ण है। कांग्रेस इसका समर्थन नहीं करती है। उन्होंने कहा कि कांग्रेस कार्यसमिति की हाल में दिल्ली में बैठक हुई थी जिसमें प्रस्ताव लाकर सीएए और एनआरसी का विरोध करने का फैसला किया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *