370 पर अपने—अपने मत पेश करने पर कांग्रेस में हलचल, कांग्रेस ने बुलाई बैठ​क

Congress अनुच्छेद 370 जम्मू एवं कश्मीर

आलाकमान द्वारा बैठ​क का आयोजन

Spread the love

नई दिल्ली। केंद्र सरकार द्वारा जम्मू एवं कश्मीर के अनुच्छेद 370 को रद्द करने वाले प्रस्ताव पर कांग्रेस के कुछ वरिष्ठ नेता अपना डिसीप्लेन खो बैठे और अपनी भावनात्मक भावनाओं में खो कर अलग—अलग बयान बाजी करने लगे और पार्टी के दिए निर्देश की राह को भूल गए। जिससे कांग्रेस पार्टी में खलबली मच गई और आनन फानन में पार्टी आलाकमान द्वारा एक बैठ​क का आयोजन किया गया। कांग्रेस ने इस पर विस्तृत चर्चा के लिए राज्यों के सभी वरिष्ठ नेताओं की एक बैठक बुलाई है।

पार्टी के वरिष्ठ नेताओं को लिखे पत्र में कांग्रेस महासचिव के. सी. वेणुगोपाल ने कहा है, ‘शुक्रवार शाम छह बजे सभी महासचिव, राज्यों के प्रभारी, राज्य इकाई प्रमुख, सीएलपी नेता, अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी के विभागों के अध्यक्षों, प्रकोष्ठ और कांग्रेस सांसदों की एक बैठक आयोजित करने का निर्णय लिया गया है।’ इस पत्र में कहा गया है कि इस बैठक में अनुच्छेद 370 के रद्द करने से संबंधित चर्चा होगी।

यह बैठक ऐसे समय में हो रही है, जब मंगलवार को कांग्रेस कार्यकारिणी (सीडब्ल्यूसी) ने अनुच्छेद 370 को समाप्त करने की निंदा करते हुए एक प्रस्ताव पारित किया है। कांग्रेस कार्यकारिणी ने इस प्रस्ताव को जम्मू एवं कश्मीर रियासत और भारत के बीच विलय का इंस्ट्रमेंट बताया। यह प्रस्ताव सीडब्ल्यूसी की लगभग चार घंटे चली बैठक के बाद पारित किया गया, जिसमें कई कांग्रेस नेताओं ने अनुच्छेद 370 को खत्म करने को राष्ट्र हित में बताया।

लेकिन सीडब्ल्यूसी के प्रस्ताव में कहा गया है कि अनुच्छेद 370 में तब तक संशोधन नहीं किया जाना चाहिए, जब तक कि हर वर्ग के लोगों से परामर्श न कर लिया जाए, और यह भारत के संविधान के अनुरूप हो। अनुच्छेद 370 को रद्द करने के फैसले को एकतरफा और अलोकतांत्रिक बताते हुए प्रस्ताव में कहा गया है कि जम्मू एवं कश्मीर को संविधान के प्रावधानों की गलत व्याख्या करके खंडित किया गया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *