आवेदनों में कमी मोदी सरकार की उपलब्धि: अमित शाह

BJP Amit Shah RTI

RTI आवेदनों की संख्‍या में कमी आई

Spread the love

नई दिल्‍ली। भाजपा अध्यक्ष और केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह ने सूचना का अधिकार को लेकर कहा कि आवेदनों में आई कमी को मोदी सरकार की उपलब्धि बताई है। सेंट्रल इंफार्मेशन कमिशन के 14वें वार्षिक कंवेंशन में केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह ने शनिवार को प्रधानमंत्री मोदी सरकार की तारीफ करते हुए कहा कि सरकार का उद्देश्‍य है कि जितना संभव हो सके उतनी जानकारियां पब्लिक डोमेन में उपलब्‍ध कराई जाएं ताकि RTI आवेदनों की संख्‍या में कमी आए। सरकार की सफलता अधि‍क आरटीआई आवेदनों में नहीं है। उन्‍होंने कहा,’ RTI आवेदनों में कमी आने का मतलब है कि सरकार का काम संतोषजनक है।’

गृहमंत्री अमित शाह ने आगे कहा​ कि ‘हम ऐसी व्‍यवस्‍था चाहते हैं जहां लोगों को RTI का आवेदन करने की आवश्य​​कता महसूस न हो। इस इवेंट में मुख्‍य अतिथि के तौर पर गृहमंत्री अमित शाह थे। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने यह सुनिश्चित किया है कि बगैर आरटीआई आवेदन किए जारी योजनाओं के बारे में लोगों को जानकारी हासिल हो सके।

डैशबोर्ड के जरिए हमने एक नए पारदर्शी युग की शुरुआत की।’ उन्‍होंने आगे बताया कि इसका इस्‍तेमाल कर यह देखा जा सकता है कि कितने शौचालयों का निर्माण किया गया है। साथ ही इसके जरिए सौभाग्‍य योजना के तहत इलेक्ट्रिसिटी कनेक्‍शन को देखा जा सकता है।

उन्‍होंने कहा कि ‘अशिक्षित महिला भी डैशबोर्ड के जरिए यह पता कर सकती है कि उसे कुकिंग गैस सिलिंडर कब मिलेगा। सरकार ने प्रशासनिक कामों को इतना पारदर्शी बना दिया है कि RTI आवेदनों की आवश्यकता ही कम हो गईं हैं। अमित शाह ने CIC से मेरा आग्रह ​कर कहा कि वे लोगों को इस

बात की जानकारी दें कि जिसे अपनाने के बाद हमें आरटीआई आवेदन करने की जरूरत ही न पड़े।’ अमित शाह ने कहा कि RTI कानून का मुख्‍य लक्ष्‍य व्‍यवस्‍था में लोगों के बीच विश्‍वास बनाना है।
उल्‍लेखनीय है कि ट्रांसपैरेंसी इंटरनेशनल इंडिया की एक रिपोर्ट के अनुसार, पिछले 14 सालों में कुल 3.02 करोड़ लोगों ने इसका इस्‍तेमाल किया। भारत में वर्ष 2005 में यह एक्‍ट लाया गया था।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *