रूस ने कोरोना वैक्सीन का नाम स्पुतनिक-वी रखा

Spread the love

पुतिन की बेटी के शरीर में वैक्सीन के बाद काफी संख्या में एंटीबॉडीज बने

मास्को। नोवल कोरोना वायरस से निपटने के लिए वैक्सीन बनाने को लेकर चल रही देशों के बीच मौजूदा होड़ में रूस ने कल एक बड़ी घोषणा की। रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने वैक्सीन का पहला डोज राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन की बेटी को दिया गया। उन्हें दो डोज दिए गए। डोज देने के बाद शरीर के तापमान में बदलाव रिकॉर्ड किया गया। पुतिन के मुताबिक, पहली डोज देने पर उसके शरीर का तापमान 38 डिग्री था। वैक्सीन की दूसरी डोज दी गई तो तापमान 1 डिग्री गिरकर 37 डिग्री हो गया।

आपको बता दे कि पुतिन की दो बेटियां हैं, मारिया और कैटरीना, वैक्सीन दोनों में से किसको लगी है यह साफ नहीं किया। आधिकारिक तौर पर कोरोना की वैक्सीन रजिस्टर करने वाला रूस दुनिया का पहला देश बन गया है। रूस के स्वास्थ्य मंत्री मिखाइल मुराश्को के मुताबिक, दुनियाभर के 20 देशों ने हमारी वैक्सीन स्पुतनिक-वी के लिए प्री-ऑर्डर दिया है। रूसी वेबसाइट ने दावा किया है कि भारत, साऊदी अरब, इंडोनेशिया, फिलीपींस, ब्राजील, मैक्सिको जैसे देशों ने वैक्सीन को खरीदने की इच्छा जताई है।

जानकारी के अनुसार रूस 2020 के आखिर तक वैक्सीन के 20 करोड़ डोज तैयार किए जाने की योजना बना रहा है। इनमें से 3 करोड़ डोज रूस अपने लिए रखेगा। वैक्सीन का उत्पादन सितम्बर में शुरू होगा। रूस तीसरे चरण का ट्रायल कई देशों में करने की योजना बना रहा है, इसमें सऊदी अरब, ब्राजील, भारत और फिलीपींस शामिल हैं। रूस ने वैक्सीन का नामकरण अपनी पहले उपग्रह स्पुतनिक-वी के नाम पर किया है। इसे 1957 में लॉन्च किया गया था।

Russia named the corona virus vaccine as Sputnik-V. A large number of antibodies were formed in the body of Vladimir Putin’s daughter after taking vaccine dose.


Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *