अल कायदा के सरगना की नई धमकी से सचेत रहने की जरुरत

al kayda

Spread the love

रंजीत कुमार||

जम्मू कश्मीर में पाकिस्तान समर्थक जेहादी ताकतों को अब तक कोई कामयाबी नहीं मिलने और भारत में नरेन्द्र मोदी की सरकार के सख्त रवैये से एक ओर जहां पाकिस्तान हताश होने लगा है वहीं आतंकवादी संगठन अल कायदा ने जम्मू कश्मीर को अपनाने का ऐलान कर दिया है। अल कायदा के सरगना अल जवाहिरी ने जुलाई के पहले सप्ताह में भारत को आतंकित करने के इरादे से एक वीडियो जारी किया जिसमें चेतावनी दी गई कि अल कायदा ने जम्मू कश्मीर को भूला नहीं है और भारत में उसका जेहाद जारी रहेगा।

अल कायदा के इस ऐलान के बाद जम्मू कश्मीर में जेहाद चला रहे गुटों के बीच आपसी टकराव होने की भी सम्भावना पैदा हो चुकी है। जम्मू कश्मीर के दावेदार बढ़ते जाने से जहां जैश ए मुहम्मद के काडरों और अल कायदा के काडरों में टकराव बढ़ने की सम्भावना जताई जा रही है वहीं भारतीय सुरक्षा बलों का यह मानना है कि जम्मू कश्मीर के लोगों को अब अल कायदा या पाकिस्तान समर्थित आतंकी गुटों में से एक को चुनना होगा। अल कायदा के सरगना अल जवाहिरी ने अपने वीडियो में जिस तरह पाकिस्तान से निऱाशा जाहिर की है उससे साफ उजागर होता है कि अल कायदा और पाकिस्तानी सेना के बीच ठन गई है।

अलकायदा जम्मू कश्मीर में एक स्वतंत्र निजाम स्थापित करने का सपना देख रहा है जब कि पाकिस्तान समर्थित आतंकी संगठन पाकिस्तान के झंडे तले रहना चाहते हैं। पाकिस्तान स्थित जेहादी संगठन जम्मू कश्मीर को जेहाद चलाने के लिये एक उर्वर जमीन मानते रहे हैं लेकिन उनमें अब तक एकजुटता नही देखी गई है। अल कायदा के पहले जम्मू कश्मीर में ईस्लामिक स्टेट ने भी अपनी गतिविधियो से लोगों औऱ सुरक्षा बलों को आतंकित करने की कोशिश की थी लेकिन उसे अब तक कामयाबी नहीं मिली है।

अफगानिस्तान से खदेड़ भगाए जाने के बाद अल कायदा ने गत दो दशकों में ऐसा कोई बडा आतंकवादी हमला दुनिया में कही भी करने में कामयाबी नहीं हासिल की है जिससे उसकी नई ताकत का पता लग सके। लेकिन जम्मू कश्मीर में अल कायदा इसलिये अपना पांव जमाना चाह रहा है कि वहां पाकिस्तान से हताश कई आतंकवादी किसी नये ठिकाने की तलाश में हैं। वैसे तो अल कायदा के सरगना ने भारतीय सेना पर लगातार हमले जारी रखने का निर्देश अपने गुर्गो को दिया है लेकिन भारतीय सेना इससे जरा भी डर नहीं रही। भारतीय विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रवीश कुमार ने भी कहा कि ऐसी धमकिया वह अक्सर सुनते रहते हैं।

लेकिन भारतीय सुरक्षा बल अल जवाहिरी की धमकियों को नजरअंदाज भी नहीं कर रहे और अल कायदा की साजिशों से निबटने को पूरी तरह तैयार हैं। अब तक पाकिस्तानी सेना द्वारा समर्थित जैश ए मुहम्मद औऱ लश्कर ऐ तैयबा आतंकवादी संगठनों से भारतीय सेना जूझ रही थी लेकिन अब भारतीय सैनिकों को दोनों अलग आतंकी गुटों से अलग अलग निबटना होगा। ओसामा बिन लादेन के मारे जाने के बाद अल कायदा एक मृत प्राय आतंकी संगठन जैसा हो गया था। इसीलिये अल कायदा के सरगना ऐमन अल जवाहिरी ने भारतीय सेना पर हमले जारी रखने और जम्मू कश्मीर को न भूलने और वहां जेहाद जारी रखने का चेतावनी भरा डरावना बयान एक वीडियो जारी कर यह दिखाया है कि अल कायदा एक संगठन के तौर पर मृतप्राय नहीं हुआ है और वह भारत सहित विश्व समुदाय को आतंकित करने के लिये नई साजिशें रच रहा है। हालांकि भारतीय विदेश मंत्रालय ने अल जवाहिरी के बयान को तवज्जो नहीं देने की बात की है लेकिन सच्चाई यह है कि अल कायदा को हमें तब तक गम्भीरता से लेना होगा जब तक कि उसे पाकिस्तान जैसे देशों का अप्रत्यक्ष और चोरी छिपे समर्थन जारी रहेगा।

खुफिया एजेंसियों की रिपोर्टें हैं कि अल कायदा का सरगना अल जवाहिरी पाकिस्तान में ही उसी तरह छिपा हुआ है जैसे कि अल कायदा का संस्थापक ओसामा बिन लादेन छिपा था और पाकिस्तन की सरकार औऱ सेना उसे संरक्षण दे रही थी। अल जवाहिरी के बारे में यदि ये रिपोर्टें सही हैं कि वह भी ओसामा बिन लादेन और असके बेटे की तरह पाकिस्तान में ही छिपा हुआ है तो अंतरराष्ट्रीय समुदाय को इसे गम्भीरता से लेना चाहिये। अमेरिका और इसके साथी देश इस गलतफहमी में न रहें कि उसने आतंकवाद से अपने को पुरी तरह सुरक्षित कर लिया है।

अल कायदा निश्चित तौर पर अपने को पुनर्गठित कर रहा है और वह पाकिस्तान में सुरक्षित पनाह में एक ब़डे हमले की तैयारी कर रहा होगा। आखिरकार ओसामा बिन लादेन ने भी 9-11 के न्यूयार्क और वाशिंगटन पर हमले की साजिश पाकिस्तान में ही रची थी और पाकिस्तान के खुफिया तंत्र को भी इसकी पूरी जानकारी थी। इसी तरह अल जवाहिरी और ओसामा का बेटा अल हमजा भी अपने को नए हमलों के लिये तैयार कर रहा है। अल जवाहिरी के ताजा वीडियो से यह साबित होता है कि उसके लोग न केवल जम्मू कश्मीर बल्कि दुनिया के कई अन्य देशों में सक्रिय हैं और वे चुपचाप किसी बड़ी साजिश को अंजाम देने की ताक में हैं। चूंकि अल जवाहिरी ने अपने वीडियों में पहली बार सीधा भारतीय सेना और कश्मीर का नाम लिया है इसलिये भारतीय सुरक्षा बलों को इनसे मुकाबला करने के लिये नई रणनीति से काम करना होगा।

Click here for the E-Paper of the week http://epaper.delhiuptodate.in/

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *