अब नहीं होगा आपका डाटा लॉस: पिकल (Piql) रखेगा आपके डाटा को सुरक्षित

Data loss has become a common problem

नॉर्वेजियन कंपनी पिक्ल नई शोध

Spread the love

दिल्ली अप टु डेट

नई दिल्ली। आज के युग मे डाटा लॉस एक आम समस्या बन चुका है एक सर्वे के मुताबिक कम्पयुटर व फोन प्रयोग करने वाले 90 प्रतिशत से अधिक उपभोगता कई बार अपनी डिवाइसिस का डाटा खो चुके है।

इसी समस्या के मद्देनजर रखते हुए नॉर्वेजियन कंपनी पिक्ल ने दीर्घकालिक डेटा भंडारण प्रौद्योगिकी मे नई शोध विकसित की है और डिजिटल संरक्षण और संग्रह के लिए एक नया यंत्र दुनिया के सामने प्रस्तुत किया है। इस उत्पाद के कारण (Piql) दुनिया भर में सुर्खियों में आया है।

पिकल के इस नए यंत्र द्वारा डेटा को संग्रह करने के लिए एक डिजिटल माध्यम के रूप में फिल्म के रुप मे सहेजा जाता है। डेटा को फिल्म पर संग्रहीत जानकारी को पुनप्राप्त करने के लिए आवश्यक सभी सूचनाओं के साथ उच्च घनत्व क्यूआर कोड का उपयोग करके संग्रहीत किया जाता है, जिससे यह आत्म-निहित और भविष्य के लिए सुरक्षित रखा जाता है। जिसमे डेटा को सैकड़ो वर्षो तक सुरक्षित जीवित रखा जा सकता है। इस डेटा को सुरक्षित, अप्राप्य व बिना जोखिम के पुन:प्राप्त किया जा सकता है, भले ही वो डेटा कितने समय तक संग्रहीत क्यो न हो। यह अपनी तरह की एकमात्र सेवा है और लंबी अवधि के डिजिटल संरक्षण के लिए एकमात्र ऑफ़लाइन, माइग्रेशन-मुक्त तकनीक उपलब्ध है।

Piql आर्कटिक वर्ल्ड आर्काइव में स्टोरेज प्रदान करता है, जो एक आर्कटिक गहरी तिजोरी है। संग्रह भावी पीढ़ियों के लिए सबसे संवेदनशील और अपूरणीय डेटा की सुरक्षा सुनिश्चित करता है। हर समय बढ़ते हुए, आर्कवेट द एड्वर्ड मंक, वेटिकन लाइब्रेरी से प्राचीन पांडुलिपियों, विभिन्न देशों के अभिलेखागार और जीथब से सबसे महत्वपूर्ण ओपन सोर्स कोड रिपॉजिटरी सहित पुरालेख रखता है।

Piql के प्रबंध निदेशक,रू ण बेज़ेस्ट्रैंड ने दिल्ली मे नॉर्वेजियन दूतावास मे आयोजित एक कार्यक्रम मे दिल्ली अपटुडेट के संपादक नरेन्द्र धवन को बातचीत के दौरान बताया कि भारत Piql के लिए एक रोमांचक बाजार है क्योकि भारत एक समृद्ध इतिहास और सांस्कृतिक विरासत वाला देश है जिसकी देखभाल और भविष्य की पीढ़ियों के लिए कागज और एनालॉग अभिलेखागार के बड़े संग्रह के साथ—साथ डिजिटल परिवर्तन व जानकारी के लिए पिक्ल महत्वपूर्ण भूमिका निभा सकता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *