दिल्ली पुलिस साइबर सेल ने गिरोह का किया पर्दाफाश , अब तक 30 स्कैम कर चुके हैं।

बढ़ते समय के साथ जैसे वेब और इंटरनेट का जाल बड़ा होता जा रहा है और लोगों का काम आसान हो रहा है तो वहीँ दुसरे तरफ इस पे लोग फास्ट भी जा रहे हैं। प्रतिदिन हर व्यक्ति 3-4 जीबी इंटरनेट इस्तेमाल सोशल मीडिया , मनी ट्रांसक्शन , आदि के लिए किया जाता है। इंटनेट पर सोशल मीडिया एप्प्स जितना काम आसान करती है तो वहीँ दूसरी तरफ इस्पे बढ़ते हैकिंग , साइबर बुली , स्कैम के मामले लगातार बढ़ते जा रहे हैं जिसको लेकर दिल्ली पुलिस लगातार साइबर सेल के टीम के साथ लगातार ऐसे कामों को रोकने का प्रयास कर रही है व लगातार इन से जुड़े गिरोह को पकड़ रही है।

प्रेस कॉनफेरेन्स के दौरान नार्थ डिस्ट्रिक्ट के DCP सागर सिंह कलसी ने लोगों को प्रेस कांफ्रेंस से जागरूक किया व साइबर क्राइम से जुड़े कुछ टिप्स भी दिए जिसमे बताया गया की लोग प्रतिदिन बढ़ते सीबेर क्राइम से कैसे दूर रह सकते हैं। कलसी ने साइबर क्राइम को मद्देनज़र रखते हुए (POLICE) पुलिस के अक्षरों से साइबर क्राइम से जोड़कर इसके बारे में बताया गया। कलसी ने ‘पि’ ‘P’ से बताया की अपना पासवर्ड किसी को भी न दें , ‘ओ’ , ‘O’ के ज़रिये यह बताया की आपके फ़ोन पे आया ओ टी पि किसी साथ न शेयर करें , ‘एल’ , ‘L’ से उन्होंने बताया की किसी भी अनजान व्यक्ति द्वारा भेजे गए अनधिकृत लिंक को न खोलें , ‘आई’ , ‘I’ से यह बताया गया की किसी भी असत्यापित , लो-रेटेड एप्प्स के साथ अपनी आइडेंटिफिकेशन व अपने किसी भी तरह की इनफार्मेशन न शेयर करें , ‘सी’ , ‘C’ के ज़रिये यह बताया की किसी भी पोस्ट , फोटो , वीडियो पे अस्वीकारिक कमेंट न करें जिससे किसी भी व्यक्ति का अपमान हो जिससे किसी व्यक्ति को परेशानी हो , और आखरी में ‘ई’ , ‘E’ से तात्पर्य है इजी मनी। इजी मनी में स्कैमर्स और फ्रॉड वेब आपके भावनाओं के साथ खेलकर , आपका विश्वास जीत कर आपके साथ फ्रॉड करते हैं। यह स्कैमर्स ज़रूरतमंद लोगों को अपना टारगेट बनता है जिसके बाद वह अपने इस जाल में उन्हें धकेलता रहता है।

इसी केस से जुड़ा मामला दिल्ली से सामने आया जहां पुलिस के साइबर सेल ने अभी एक गिरोह को पकड़ा है जिसको लेकर लोगों में जागरूकता बढ़ाई जा रही है। मजनू के टीले के पास रहने वाले एक निवासी भी इसी स्कैम के शिकार बने जिसमे पीड़िता लड़की को आत्महत्या करने पर मजबूर कर दिया था जिसके बाद लड़की ने हिम्मत जुटाई और अपने पिताजी को बताया जिसके बाद उन्होंने तुरंत नार्थ डिस्ट्रिक्ट के साइबर सेल को सूचित किया जिसके बाद साइबर सेल ने सक्रियता के साथ इस मामले की जांच करनी शुरू करी और इस गिरोह को पकड़ा। इस गिरोह में काम करने वाले 18 लोगों को गिरफ्तार किया गया जिसमे 9 महिला थी। स्कैमर्स के ठिकानो से कई कम्प्यूटर्स , २ रॉयटर्स , सर्वर्स भी जब्त किये गए और उस लड़की को इस गिरोह के जंजाल से बचा लिया गया।

 

Arit
Author: Arit

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *