दिल्ली के 5 सबसे मशहूर मंदिर

1 .अक्षरधाम मंदिर

Photo

यमुना नदी के तट पर स्थित दिल्ली का प्रसिद्ध मंदिर है। स्वामीनारायण अक्षरधाम, जिसे अक्षरधाम या अक्षरधाम मंदिर के नाम से जाना जाता है, भारत में सबसे लोकप्रिय हिंदू मंदिरों में से एक है। 141 फीट ऊंचा, 316 फीट चौड़ा और 356 फीट लंबा खूबसूरती से बना अक्षरधाम मंदिर गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड में दुनिया के सबसे बड़े हिंदू मंदिर परिसर के रूप में दर्ज है। बता दे अक्षरधाम मंदिर साल 2005 में खोला गया था, जो भगवान स्वामीनारायण को समर्पित है। यह दिल्ली के सबसे प्रसिद्ध मंदिरो में से एक है और इसकी खूबसूरती की वजह से कई पर्यटक इस मंदिर में भ्रमण करने के लिए आते है।

अक्षरधाम मंदिर के दर्शन का समय

  • सुबह 10.00 बजे से शाम 8.00 बजे तक

अक्षरधाम मंदिर का प्रवेश शुल्क

  • दिल्ली के प्रसिद्ध अक्षरधाम मंदिर के दर्शन के लिए आने वाले पर्यटकों को बता दे मंदिर में प्रवेश के लिए कोई भी शुल्क नही है लेकिन यदि आप यहाँ आयोजित होने वाली प्रदर्शनी में हिस्सा लेना चाहते है तो उसके लिए आपको टिकट लेना होगा।
2 .छतरपुर मंदिर

छतरपुर मंदिर - विकिपीडिया

साउथ दिल्ली में स्थित, छतरपुर मंदिर देवी कात्यायनी को समर्पित दिल्ली का प्रसिद्ध मंदिर है जिसे श्री आद्य कात्यायनी शक्ति पीठम के नाम से भी जाना जाता है।दूर-दूर से लोग यहां आते हैं तथा माता के दर्शन एवं आशीर्वाद प्राप्त करने की इच्छा रखते हैं। इस मंदिर की स्थापना बाबा संत नागपाल ने सन 1974 में की थी। इस मंदिर परिसर में देवी कात्यायनी का मंदिर साल में दो बार नवरात्री के मौके पर ही खोला जाता है। क्यों की उस वक्त हजारों भक्त देवी के दर्शन हेतु यहापर बड़ी दुर से आते है।

छतरपुर मंदिर की टाइमिंग

  • सुबह 6.00 बजे से शाम 10.00 बजे तक
  • सुबह की आरती : 6.30 बजे
  • शाम की आरती : 7.00 बजे

 

3 .कालकाजी मंदिर

कालकाजी मंदिर | District Magistrate South East | भारत

 

 

कालकाजी मंदिर भारत की राजधानी शहर दिल्ली का एक लोकप्रिय और अत्यधिक सम्मानित मंदिर है।यह मंदिर कालका देवी, देवी शक्ति या दुर्गा के अवतारों में से एक को समर्पित है. अरावली पर्वत श्रृंखला के सूर्यकूट पर्वत पर विराजमान कालकाजी मंदिर के नाम से विख्यात ‘कालिका मंदिर’ देश के प्राचीनतम सिद्धपीठों में से एक है, जहां नवरात्र में हजारों लोग माता का दर्शन करने पहुंचते हैं. इस पीठ का अस्तित्व अनादि काल से है.

कालका देवी मंदिर के दर्शन का समय

  • गर्मियों में सुबह की प्रार्थना का समय 05:00 से सुबह 6:30
  • सर्दियों में सुबह की प्रार्थना का समय 06:30 से 8:00
  • गर्मी के दिनों में शाम की प्रार्थना का समय 07:00 बजे से 8:30
  • सर्दियों में शाम की प्रार्थना का समय 06:30 से 8:00 बजे

 कालकाजी मंदिर का प्रवेश शुल्क

  • फ्री

 

4 .योगमाया मंदिर

Yogmaya Temple In Mehrauli, Delhi - A Tour | So Delhi

दक्षिण दिल्ली के महरौली में पांच हजार वर्ष पुराना योगमाया मंदिर है। कहा जाता है कि इसकी स्थापना पांडवों ने की थी। योगमाया भगवान कृष्ण की बड़ी बहन थीं। पांडवों ने उन्हीं के वरदान से विजय गाथा लिखी थी। यहां दर्शन मात्र से बड़े से बड़े संकट दूर हो जाते हैं। योगमाया मंदिर वास्तुकला, संस्कृति और आध्यामिकता से भरपूर है जो भारी संख्या में भक्तों और पर्यटकों को अपनी ओर आकर्षित करता है।

योगमाया मंदिर के दर्शन का समय

  • सुबह 6.00 बजे से रात्रि 8.30 बजे तक

योगमाया मंदिर की एंट्री फीस

  • फ्री
5 .प्राचीन हनुमान मंदिर कनॉट प्लेस

 

About Hanuman Temple (हनुमान मंदिर), timing, photo, video, location, city  and Hanuman Mandir

दिल्ली के कनॉट प्लेस में स्थित प्राचीन हनुमान मंदिर दिल्ली का एक और प्रसिद्ध मंदिर है जो स्थानीय लोगो के साथ साथ दूर दूर से आने वाले श्रद्धालुयों के लिए आस्था का केंद्र बना हुआ है। यह प्राचीन मंदिर महाभारत के समय में बनाए गए पांच मंदिरों में से एक माना जाता है। लेकिन मंदिर का जीर्णोद्धार करते हुए वर्तमान मंदिर का निर्माण 1724 में महाराजा जय सिंह द्वारा करबाया गया था। जैसा कि आप जानते होंगें हनुमान जी भगवान श्री राम के कितने बड़े भक्त थे इसी को ध्यान में रखते हुए मंदिर की मंदिर की छत को भगवान राम की छवियों से अलंकृत किया गया है। आपको जानकर हैरानी होगी कि श्री राम, जय, राम, जय राम के निरंतर जाप के लिए यह मंदिर गिनीज रिकॉर्ड रखता है।

वैसे तो यह मंदिर सभी दिनों में खुला रहता है, लेकिन यहां मंगलवार और शनिवार को बड़ी संख्या में भक्तों की भीड़ उमड़ती है। यदि आप भीड़ भाड़ से दूर हनुमान जी के दर्शन करना चाहते है तो मंगलवार और शनिवार के दिन छोड़कर ही हनुमान मंदिर की यात्रा करें।

प्राचीन हनुमान मंदिर के दर्शन का समय 

  • सुबह से लेकर शाम तक
  • प्राचीन हनुमान मंदिर की एंट्री फीस
    • फ्री

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *