राजधानी दिल्ली में हो रही सबसे अधिक सड़क दुर्घटना, रोज चार लोगों की जाती है जान

 

राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में होने वाली सड़क दुर्घटनाओं में रोज 4 लोगों की मौत होती है। वर्ष 2022 में सड़क दुर्घटनाओं में 1461 लोगों की मौत हुई, यानी हर रोज चार लोगों की जान गई। ठीक उसी तरह वर्ष 2023 में भी 30 नवंबर तक रोज चार लोगों की मौत हुई। दुर्घटनाओं के मामले में दिल्ली विदेश के कई शहरों से भी सबसे आगे है। दिल्ली पुलिस के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि दस लाख से अधिक आबादी वाले शहरों में से दिल्ली में सबसे अधिक घातक दुर्घटनाएं हुईं, इसके बाद चेन्नई, बीजिंग और शंघाई का स्थान है।

हालांकि, अन्य समान जनसांख्यिकीय और भौगोलिक विशेषताओं वाले शहरों में कई सड़क दुर्घटनाएं होती हैं, लेकिन उनकी मृत्यु दर दिल्ली की तुलना में कम है। टोक्यो और न्यूयॉर्क जैसे शहर उच्चतर हैं। दिल्ली की तुलना में इनकी जनसंख्या ज्यादा है, फिर भी सबसे कम सड़क मृत्यु दर दर्ज की गई। दिल्ली में मोटर वाहन पंजीकरण अनुपात 37.3% है इसकी आबादी के हिसाब से इसे चेन्नई के बाद दूसरा सबसे बड़ा स्थान दिया गया है। टोक्यो का पंजीकरण अनुपात 8.3% है, जबकि न्यूयॉर्क में 15.81%, शंघाई में 20%, बीजिंग में 25.4%, मुंबई में 4.7% और कोलकाता में 5.2% मोटर वाहन पंजीकरण हैं।

वर्ष 2022 में दिल्ली में सड़क दुर्घटनाओं की संख्या में पिछले वर्ष 2021 की तुलना में औसतन 19.7% की वृद्धि हुई। साधारण सड़क दुर्घटनाओं व घातक क्रमशः 17.9% और 21.7% की वृद्धि हुई। दिल्ली में हर दिन औसतन 15 दुर्घटनाएं और चार मौतें होती हैं।

पुरुषों की ज्यादा मौतें
लिंग और आयु-विशिष्ट सड़क सुरक्षा निर्णयों और बुनियादी ढांचे की आवश्यकताओं को समझने के लिए दिल्ली में सड़क दुर्घटनाओं का जनसांख्यिकीय वर्गीकरण आवश्यक है। इस रिपोर्ट में 18 साल से कम उम्र वालों को नाबालिग और 18 साल से ज्यादा उम्र वालों को वयस्क माना गया है। वर्ष 2022 में सड़क यातायात दुर्घटनाओं में कुल मिलाकर 1270 पुरुष और 114 महिला वयस्कों की मौत हुई है, जबकि 4145 पुरुष और 647 महिला वयस्क घायल हुईं। दुर्घटनाओं में कुल मामूली पीड़ित 57 लड़के और 20 लड़कियां की मौत हुई। 303 लड़के और 106 लड़कियां घायल हो गईं। छोटी दुर्घटनाओं में मौतें और चोटें 2018 में सबसे अधिक थीं। पिछले 5 वर्षों में अब तक 300 नाबालिग पुरुषों और 104 नाबालिग महिलाओं की मौत हुई है।

रात 12 बजे के बाद ज्यादा होती हैं सड़क दुर्घटनाएं
समयवार विश्लेषण से पता चला है कि घातक दुर्घटनाएं 7 बजे (64) से धीरे-धीरे बढ़कर रात 11 बजे के बाद (113) तक पहुंच गईं और बाद में गिरावट शुरू हो गई। घातक दुर्घटनाओं की संख्या सबसे अधिक है। यह समयावधि शाम के यातायात के व्यस्त घंटों के साथ भी ओवरलैप होती है इससे सड़क पर वाहनों की विविधता बढ़ जाती है। रात 12 बजे के बाद सड़क दुर्घटनाएं ज्यादा होती हैं। सड़कों पर विभिन्न वाहन श्रेणियों में अचानक वृद्धि हुई है क्योंकि मध्यम और भारी माल वाहनों के लिए प्रवेश प्रतिबंध हटा दिए गए हैं। घातक दुर्घटनाएं धीरे-धीरे 2 बजे से शाम 4 बजे तक कम हो गईं। पिछले साल जहां इस समय में मौतें 42 थी वहीं अब 39 ही हैं। पैदल यात्रियों की आवाजाही, धीमी गति से चलने वाले वाहनों, गैर-वाणिज्यिक यातायात और वाणिज्यिक यातायात में कमी के कारण की संख्या एक बजे के बाद दुर्घटनाओं में भी कमी आई है।
रिंग रोड पर सबसे ज्यादा मौतें
दिन और रात के अनुसार दुर्घटना वर्गीकरण से पता चलता है कि वर्ष 2022 में 806 घातक दुर्घटनाएं रात के दौरान हुईं, जबकि 622 दिन में हुईं। दिल्ली ट्रैफिक पुलिस ने 2022 के लिए दुर्घटना स्थलों का स्थानिक विश्लेषण किया है। रिंग रोड पर सबसे ज्यादा मौतें (25), जीटी करनाल रोड (17), और आउटर रिंग रोड (15) हुईं।

दिल्ली के वाहन हुए खतरनाक
2022 में कुल 5652 दुर्घटनाएं हुईं। इनमें से 45.47% दुर्घटनाएं राज्य के अज्ञात वाहनों से हुईं। दिल्ली में जो दुर्घटनाएं हुई उनमें इसके बाद दिल्ली में पंजीकृत 40.76% वाहन से, हरियाणा से संबंधित 8.7% वाहन, उत्तर प्रदेश राज्य से संबंधित 3.2% वाहन और 1.87% वाहन भारत के बाकी राज्यों के हैं। दिल्ली में पंजीकृत वाहनों से होने वाली कुल दुर्घटनाओं की श्रेणी में अधिकतम दुर्घटनाएं निजी कारों द्वारा की गईं (939 अर्थात 40.75%) हैं।

इन 9 सड़कों से बचें
वर्ष 2022 में दिल्ली में 9 सड़कों पर 10 या अधिक मौतें दर्ज की गईं। इन सड़कों में नजफगढ़ रोड, महरौली बदरपुर रोड, रोड नंबर 201, रोड नंबर 56, यमुना पुस्ता रोड, पुस्ता रोड, कंझावला रोड, देशबंधु रोड और विकास मार्ग भी शामिल हैं। इन सड़कों पर एक साल में 127 मौतें और 465 दुर्घटनाएं हुईं.

Saumya Mishra
Author: Saumya Mishra

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *