कैसे होती है Acid Rain? क्या यह तेज़ाब की तरह होती है नुक्सान दायक?

बारिश का मौसम किसको नहीं पसंद होता। बारिश में भीगने का अपना ही मज़ा होता है और भीषड़ गर्मी के बीच बारिश का होना काफी सुकून देता है। आपने अपने बड़े बुजुर्गो से ज़रूर सुना होगा की मानसून की पहली बारिश में भीगना नहीं चाहिए वो एसिड रेन यानि अम्लीय बारिश होती हैं.लेकिन क्या आपको पता है कि पहली बारिश को एसिड रेन क्यों कहा जाता है? नहीं जानते तो चलिए हम आपको बताते है।

एसिड रेन मानसून की पहली बारिश में होती है जो अम्लीय होती है। इस बारिश में जीवाश्म से निकलने वाली सल्फर नाइट्रोजन के ऑक्साइड, धुल, कण और वायु प्रदूषण के कण होते है .जिससे एसिड की मात्रा अत्यधिक हो जाती है वायुमंडल की शुद्ध हवा में जब कोई अनावश्यक तत्व आकर मिलता है .तो इससे एसिड रेन होती है ये प्रदूषण कारखानों से निकलने वाला धुआं , रोड़ पर चलने वाली वाहन और यातायात के साधन ,प्लास्टिक और विषैली प्रदार्थ से निकलने वाले धुएं के कारण होता हैं. इसके अलावा भट्टों में कोयला के डलने से भी सल्फर गैस निकलता है. एयर कंडीशन , विद्युत संयंत्र और कई अन्य कारणों से भी सल्फर निकलता है यहीं सल्फर बारिश के पानी को प्रभावित करता है.जिस वजह से एसिड रेन होती है

एसिड रेन से कई चीज़ो पर प्रभाव पड़ता है जैसे की पौधे ,यह पौधों के पत्तों को नुकसान पहुंचा सकती है और उनकी विकास रुकवा सकती है. यह जलवायु पर भी असर डालती है, क्योंकि यह जल की गुणवत्ता को खराब कर सकता है . एसिड रेन नदियों और झीलों में रहने वाले जीवो के जीवन को प्रभावित कर सकती है. एसिड रेन की वजह से ही ताजमहल पर लगा मार्बल पीला पड़ रहा है.इसका मुख्य कारण ताजमहल के आस-पास के क्षेत्रों में लगे बड़े-बड़े कारखानों से निकलने वाली सल्फर के कारण ऐसा होता है. एसिड रेन के कारण खेत की मिट्टी भी अम्लीय हो जाती है जिससे खेतों में इसका बुरा असर पड़ता है. मिट्टी में पाए जाने वाले जीव-जन्तु पर भी इसका बुरा असर पड़ता है इसके साथ -साथ मिट्टी भी प्रदूषित होता है और मिटटी की गुड़वक्ता पर भी इसका असर पड़ता है .

आखिर क्यों होता है पेंसिल के ऊपर काला भाग

मेरी पेंसिल भी ज़रा पुरानी है मेरे बचपन की निशानी है । बचपन से जुड़ी यादें याद आ जाती है पेंसिल की बात आती है पेंसिल पढ़ाई के लिए बचपन में हम सबने बहुत इस्तेमाल की हैं पर क्या आपने कभी गौर किया है पेंसिल के ऊपर काला भाग क्यूं होता है। तो बच्चों को … Read more

Tealovers: एक गर्म चाय की प्याली हो, उसको पीना नुकसान से ना खाली हो

Tealovers: पुराने जमाने से ही चाय को बहुत पसंद किया जा रहा है और आज के समय में भी यह हमारे जीवन की एक आदत बन चुकी है। हमारे देश में पानी के बाद सबसे ज्यादा पिया जाने वाले पेय पदार्थ चाय ही है। हमारे सबके घरों में सुबह की शुरूआत चाय से ही होती … Read more

अगर आप भी स्मार्ट फोन में कवर लगाते है तो जाने ये जरूरी बात

आज के समय में स्मार्ट फोन हम सभी के जीवन का एक एहम हिस्सा बन चुका है। जो चीज़ हमारे लिए जरुरी होती है हम उसकी सुरक्षा भी करते हैं। इसी तरह हम अपने फोन की सुरक्षा के लिए उसपर कवर लगाते हैं। जब हम कवर खरीद कर लाते हैं तो शुरू में यह नया … Read more

Mobile Recharge: महीने में दिन 30 है तो मोबाइल रिचार्ज का पैक सिर्फ 28 दिनों का ही क्यों? आइए जानते है 28 दिन के पैक का राज

Mobile Recharge: आज के समय में स्मार्टफोन सबके जीवन का महत्वपूर्ण हिस्सा बन चुका है अब चाहे वह बच्चा हो या बड़ा सभी को इसकी आदत पड़ चुकी है। हालांकि जितना जरूरी है फोन है उससे कहीं ज्यादा जरूरी है इसमें डालने वाला सिम कार्ड ।जिसके बिना फोन एक खाली डिब्बे की तरह है। अगर … Read more

चिप्स कुरकुरे के पैकेट में ये zig zag cuts क्यों होते हैं?

हमें पता है कि आप सभी को चिप्स कुरकुरे खाना तो बहुत पसंद है।हमारी कोई भी पार्टी और पिकनिक इनके बिना तो मानो फीकी है और आज के समय में यह पैकेट वाली चीजें हमारे यहां सबसे ज्यादा बिकती है। बच्चे से लेकर बड़े तक सब इनको स्वाद के लिए बहुत पसंद करते हैं। यह … Read more

गर्मियों में सबसे ज़ादा पसंद किया जाने वाला ऐसा कपडा- भारत में होती है सबसे ज़्यादा बिक्री जानिए

कपडे अलग – अलग तरीके के होते है महिलाओ के लिए अलग पुरुषो के लिए अलग। कपडे अलग स्टाइल और डिज़ाइन के मिलते है जिससे लोग अपने पसंद के मुताबिक पहन सकते है लेकिन इन्हे अलग-अलग सीजन के मुताबिक भी पहना जाता है। ऐसे में क्या आप जानते है की भारत में गर्मियों के सीजन … Read more

Indian languages: विभिन्नताओं से भरे भारत में बोली जाने वाली अनेकों भाषाएं, कौन है सबसे आगे? किसे ज्यादा सुना जाता है ?

Indian Languages: हमारे देश भारत को विविधता में एकता वाला देश भी कहा जाता है। हमारे देश के विभिन्न विभिन्न इलाकों में तरह-तरह की बोलियां तथा भाषाएं बोली जाती हैं ।भारत का क्षेत्रफल लगभग 32.8 लाख वर्ग किलोमीटर है और यह देश विश्व का सातवां बड़ा देश है और साथ ही दुनिया का सबसे आबादी … Read more

Jim Corbett: आदमखोर बाघों का शिकारी बना संरक्षक

प्रकृति और संस्कृति का मिश्रण : कौन कहता है कि धरती पर खोजने के लिए और कुछ नहीं है? 1 अप्रैल 1973 को जब प्रोजेक्ट टाइगर की शुरुआत हुई, तो कॉर्बेट सिर्फ़ प्रकृति के बारे में नहीं था, जो उस समय की सबसे बड़ी रूढ़िवादी पहल थी। इस क्षेत्र को इतिहास और सांस्कृतिक विरासत के … Read more